शनिवार, 6 अप्रैल 2013

संबंधोकी भीडमे अगर बहुत उलज गये हो,

बस थोडा रोकडा मांग लो,

खुद ब खुद उलजने सुलज जायेगी

नीता कोटेचा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..