शुक्रवार, 2 दिसंबर 2011

'मेरी सहेली'

आज रह - रह कर तुम्हारे ख्याल का जेहन में कौंध जाना..
'मेरी सहेली' तुम्हारा बहुत याद आना,

वो हमारी 'तिकड़ी' का मशहूर होना,
इक दूजे से कभी दूर न होना,
वो मेरा डायरी में लिखना कि 'अंजना बहुत स्वार्थी है'
और तुम्हारा पढ़ लेना..
'तब'
कितने सलीके से समझाए थे तुमने,
जिंदगी के 'सही मायने'..
'देखो न' मेरी डायरी के वो पन्ने,
कहीं गुम हो गए हैं...
'याद है'
वो होम साइंस का प्रैक्टिकल,
जब प्लास्टिक के डब्बे में,
गर्म घी डाला था हमने,
उसे पिघलता देख कितना डर गए थे तीनो...
'और फिर'
हंस पड़े थे, अपनी ही नादानी पर,

सोचा नहीं था,
कि हमारा साथ भी छूटेगा कभी,
पर हार गए हम,
'प्रकृति के' उस एक फैसले के आगे,
'अब तो'
रोज़ तारों में ढूंढती हूँ तुम्हे,
लेकिन इक बात कहूँ,
'सच्ची में' बहुत स्वार्थी थी तुम,
वर्ना क्यों जाती, 'अकेले',
हमें यूँ छोड़ कर....

आ जाओ न वापस..
'फिर चली जाना'..
जरा अपनी यादों को धूमील तो पड़ जाने दो..
उन पर वक़्त की धुल तो जम जाने दो...

(मेरी सहेली 'अंजना' को समर्पित)

13 टिप्‍पणियां:

  1. आ जाओ न वापस..
    'फिर चली जाना'..
    जरा अपनी यादों को धूमील तो पड़ जाने दो..
    उन पर वक़्त की धुल तो जम जाने दो..कोमल भावो की बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोचा नहीं था,
    कि हमारा साथ भी छूटेगा कभी,
    पर हार गए हम,
    'प्रकृति के' उस एक फैसले के आगे,
    'अब तो'
    रोज़ तारों में ढूंढती हूँ तुम्हे,
    लेकिन इक बात कहूँ,
    'सच्ची में' बहुत स्वार्थी थी तुम,
    वर्ना क्यों जाती, 'अकेले',
    हमें यूँ छोड़ कर....इतने भावुकता भरे शब्दो को वही लिख सकता है जिसने अपनी सहेली से ऐसा प्रेम किया हो .... आपने बहुत मार्मिक चित्रण किया है जो हमेशा मेरे स्मृति पटल पर अंकित रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. apne hriday ke sare udgar in shabdo mein uker diye hain aapne....... aapki sakhi aur aap dono mein koi swarthy nahi.....bas waqt hamen nachata hai apni ungliyon per............

    उत्तर देंहटाएं
  4. aakhe bhar aai Anitaji..bhagvan kisike sath aisa na kare...jaise ek chalchitra sa chala gaya aakho ke samne se..aur humari aakhe bhi nam ho gai..

    उत्तर देंहटाएं
  5. man ke bhav ko yaad ke roop mei sanjo ke likhna........waah bahut khub...ati sunder

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमस्कार मित्र आईये बात करें कुछ बदलते रिश्तों की आज कीनई पुरानी हलचल पर इंतजार है आपके आने का
    सादर
    सुनीता शानू

    उत्तर देंहटाएं
  7. "रोज तारों में
    ढूंडती हूँ तुम्हें " बहुत भाव पूर्ण |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  8. सोचा नहीं था,
    कि हमारा साथ भी छूटेगा कभी,
    पर हार गए हम,
    'प्रकृति के' उस एक फैसले के आगे,-------सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. aap sabne ise padha aur saraha.. iske liye sadar dhanyawaad...

    उत्तर देंहटाएं

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..