गुरुवार, 22 मार्च 2012

मृत्यु शैया पर लेटी ,
गंभीर बीमारी से पीड़ित 'माँ',
चिंतित है,
इस बात से नहीं,
'कि'
इलाज़ कैसे होगा?
'बल्कि'
इस बात से,
'कि'
मेरे बाद,
मेरे बच्चो का क्या होगा.. !!अनु!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. मां तो आखिर मां हैं न...
    और बेटा चिंतित होता है कि ईलाज में पैसे कितना खर्च होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  2. माँ तो माँ ही होती है जिसे हमेशा अपने आप से ज्यादा अपने घर परिवार के सदस्यों की चिंता रहा करती है खास कर अपने बच्चों की सार्थक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  3. मृत्यु के समीप भी माँ को अपनी नहीं बच्चों की चिंता होती है..माँ आखिर माँ होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब लिखा !! माँ की आखिरी सांस बच्चों में ही अटकी होती है

    उत्तर देंहटाएं

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..