गुरुवार, 30 जून 2011

सखियों को आमंत्रण

फेसबुक पर आ सखी चुगली करें समूह के साथ सक्रिय रूप से जुड़ी रही। अब व्‍यस्‍तताओं की वजह से मुझे समूह छोड़ना पड़ा , लेकिन अब थोड़ा कम समय देकर मैं इस ब्‍लॉग में उन्‍हीं सखियों को जोड़कर सृजन की प्रक्रिया को जारी रखने का प्रयास कर रही हूं।

3 टिप्‍पणियां:

  1. bahut bahut badhai aur ye sirf aap ke liye nahi hum sab ke liye bahut achchi news hai ki hum yaha vapas ektrit ho kar kuch naya aur shitya ke liye kuch karenge...bahut bahut mubarak ho aapko bhi aur hum sari sakhiyo ko bhi...

    उत्तर देंहटाएं
  2. arey..mai to bhul hi gai yaha comment dena....abhi neeta sakhi ki comment padhi to dhyan aaya .

    sakhi praveena..tumhara ye pyar bhara nimantran hamare dil ko bahot bhaya hai....dil khushi khushi is or khincha chala aaya hai....in khushiyo ki dor tumhare hath me hamne thamaa di hai...bas..sambhale rakhna is NEH DOR ko...HAMESHA..!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर पल तुम पास थी
    खुशियों की लेकर आयी सौगात थी
    पल भर में तुमने सब बदल दिया
    ऐसी की थी क्या हमने खता ?
    लौट आओ फिर हमारे बीच
    तुम्ही तो महफ़िल की जान थी ..!!! शोभा

    उत्तर देंहटाएं

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..