शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

"दहेज दोषावली" (१)


१) बेटी ब्याहन जो चले दहेज़ न दिजौ कोय |
दिन दिन अधम दहेजको कीड़ो विकसित होय.||

२)दहेज़ -दानव बहुरूपी ,विध विध रूप सजाय |.

फ्लेट,कार,बिदेश-व्यय, बेटी देत फसाय ||

३)दहेज़-दैत्य बसे जहां, बेटी तहा न देय.|
सुता-धन दोऊ खोयके बिपदा मोल न लेय.. ||

४)दे दहेज़ मरी मरी गए ,दुष्ट न भरियो पेट .|

ऐसे निठुर राखसका करै अगिन के भेंट||

५)वे मुआ नरकमा जाय , जेई लिनहो दहेज़.|
मुफ्त्खोरके कुल माहि बेटी कभी न भेज..||

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब डॉक्टर साहिबा ,, आपने दहेज को लेकर जो दोहावली लिखी है वैसा प्रयोग पहले कभी ना हुआ होगा , सामाजिक बुराई के तौर दहेज सामाजिक परिदर्शय मे आज भी मुह बाए खड़ा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजकल दोहा पढने को नहीं मिलता है .... इस विधा में बहुत कम लोग लिखते हैं ... ये दोहे न केवल सुंदर लिखे हैं बल्कि समसामयिक भी हैं ...

    उत्तर देंहटाएं

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..