सोमवार, 3 सितंबर 2018

मुक्त

जितना आसान होता है, 
ये कह देना कि 
जाओ मुक्त किया तुम्हें, 
उतना ही मुश्किल होता है, 
साल - दर - साल साथ 
निभाये गये लम्हों से मुक्त होना,
मुक्त होना उस एहसास से,
जहाँ दुनिया तुमसे शुरू होकर
तुमपर ही खत्म हो जाती है,
जहाँ सपने
तुम्हारे सपनों से मिलकर ही,
आकार लेते हैं,
तुम्हारे मुस्कुरा भर देने से,
खिल उठते हैं,
दिन, दोपहर, शाम,
तुम्हारा होना ही होता है,
जिन्दगी का होना,
'सच'
कितना आसान होता है ये कह देना,
जाओ मुक्त किया तुम्हें ... !!अनुश्री!!

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (05-09-2018) को "शिक्षक दिवस, ज्ञान की अमावस" (चर्चा अंक-3085) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं

सखियों आपके बोलों से ही रोशन होगा आ सखी का जहां... कमेंट मॉडरेशन के कारण हो सकता है कि आपका संदेश कुछ देरी से प्रकाशित हो, धैर्य रखना..